एक पागल लड़का

About Me
May 25, 2014
It’s My Nephew’s B’day – Anil Sapotra
July 22, 2014
Show all

एक पागल लड़का

कोई तुमसे मेरा नाम जो ले,
कह देना पागल लड़का था,,
इस झूठी दुनिया में
मुझसे,जो सच्ची मोहब्बत करता था,,
मेरे रूठने पे वो रो देता,मेरी डांट पे भी खुश
हो लेता,,
जब सारे साथ छुड़ा लेते,चुपके से साथ
वो हो लेता,,
हिम्मतवाला था यूँ तो पर,मुझको खोने
से डरता था,,
कोई तुमसे मेरा नाम जो ले,कह
देना पागल लड़का था,,
मुझसे मिलने की खातिर वो,
धूप में प्यासा खड़ा रहता था,
जिस रोज मैं खाना न खाऊं,उस दिन
उपवास मनाता था,,
कोई और नहीं था उसका यहा, बस,मुझसे
ही जीता- मरता था,,
कोई तुमसे मेरा नाम जो ले,कह
देना पागल लड़का था,,
गलती मेरी भी होने
पर,माफ़ी की गुजारिश
करता था,,
हर हाल में मैं हंसती जाऊं,इस कोशिश में
बस रहता था,,
मैं कैसे उसकी हो जाऊं,हर पल ये
सोचा करता था,,
कोई तुमसे मेरा नाम जो ले,कह
देना पागल लड़का था,,
मेरे लाख मना करने पर भी,मेरा नाम जोर
से लेता था,,
मेरी एक हंसी की खातिर वो,कुछ
गाने भी गा देता था,,
मेरा हाथ पकड़ दुनिया से वो,लड़ने
की बातें करता था,,
कोई तुमसे मेरा नाम जो ले,कह
देना पागल लड़का था,,
जब पहली बार उसे देखा,चेहरे पे दर्द
का मेला था,,
मेरे साथ में थी वो बात की वो, हरदम
ही हँसता रहता था,,
कोई तुमसे मेरा नाम जो ले, कह
देना पागल लड़का था,,
अक्सर बो गुडिया की बाते किया करता था
अपनी पगलाई बातों से,अक्सर वो मुझे
रुलाता था,, उसका जीवन
बिखरा था पर,मेरा ख़याल
वो रखता था,,
कोई तुमसे मेरा नाम जो ले,कह
देना पागल लड़का था,,
मेरी पागल जिद के लिए जब,मैंने उससे हाथ
छुड़ाया था,,
उसने न कोई शिकायत की,बस धीरे से
मुस्काया था,,
मेरी यादों में रातों में,उठ उठकर
रोया करता था,,
कोई तुमसे मेरा नाम जो ले,कह
देना पागल लड़का था,,
मेरी जिंदगी की खातिर रात रात को जाग के
मुझे सच्चाई बताता था
वो पागल
लड़का तन्हा ही,मेरी यादों से
लड़ता है,,
मेरे बिन जिंदा रहने की,नाकाम
वो कोशिश करता है,,
वो आज भी मुझपे मरता है,वो कल भी मुझपे
मरता था,,
कोई तुमसे मेरा नाम जो ले,कह
देना पागल लड़का था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *